दौसा लोकसभा सीट पर मुकाबला और भी रोचक होने की संभावना है. दौसा लोकसभा क्षेत्र से चुनाव में भाग्य आजमाने के लिए बतौर निर्दलीय प्रत्याशी पूर्व विधायक अंजू धानका भी चुनाव मैदान में उतर गई हैं. पूर्व विधायक अंजू धानका ने गुरुवार को अपना नामांकन-पत्र दाखिल किया. अंजू धानका के चुनाव मैदान में उतर जाने के बाद अब यहां मुकाबला तीन महिलाओें के बीच होगा.

नामांकन दाखिल करने के लिए कलक्ट्रेट पहुंची पूर्व विधायक अंजू धानका ने कहा कि वे सभी जातियों में पैठ रखती हैं और विकास के नाम पर चुनावी मैदान में हैं. जनता की मांग के बाद उन्होंने लोकसभा चुनाव लड़ने का फैसला लिया है. अंजू धानका पूर्व में दौसा संसदीय क्षेत्र के बस्सी विधानसभा क्षेत्र से वर्ष 2008 और 2013 में दो बार बतौर निर्दलीय प्रत्याशी विधायक का चुनाव जीत चुकी हैं. वर्ष 2018 का विधानसभा चुनाव वे हार गई थीं. अंजू ने वर्ष 2014 में भी निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में लोकसभा का चुनाव लड़ा था. उस चुनाव में अंजू धानका 16,935 मत लेकर छठे स्थान पर रही थी. अब वे दूसरी बार चुनाव मैदान में हैं.

बीजेपी-कांग्रेस ने भी यहां महिला उम्मीरवार उतारे हैं

उल्लेखनीय है कि प्रदेश में दौसा लोकसभा सीट ही एकमात्र ऐसी सीट है जहां पर बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही पार्टियों ने महिला प्रत्याशियों को चुनाव मैदान में उतारा है. कांग्रेस ने यहां सविता मीणा को अपना प्रत्याशी बनाया है. सविता मीणा विधायक मुरारीलाल मीणा की पत्नी हैं. मुरारीलाल पूर्व में गहलोत सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं. वहीं बीजेपी ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री जसकौर मीणा को अपना उम्मीदवार बनाया है. जसकौर मीणा पूर्व में सवाईमाधोपुर से दो बार सांसद रह चुकी हैं. अब अंजू धानका के चुनाव मैदान में आ जाने से यहां तीन महिलाओं की बीच मुकाबला होने की संभावना है.