फरीदकोट में पुलिस के क्राइम ब्रांच इंचार्ज ने रविवार को खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। गले पर राइफल ट्रिगर दबा लिया, जिसके चलते गोली मुंह से होते हुए सिर के पार हो गई। चुनावी माहौल के बीच ऑफिस में इस तरह का कदम उठाए जाने को लेकर अब पुलिस विभाग सकते में है। परिजनों को भी कुछ पता नहीं। बहरहाल एसएसपी ने आत्महत्या करने की पुष्टि करते हुए सिर्फ इतना कहा कि कारणों की जांच चल रही है।

मिली जानकारी के अनुसार चुनाव के दौरान पुलिस पैट्रोलिंग पार्टी के प्रभारी के तौर पर तैनात क्राइम ब्रांच फरीदकोट के प्रभारी इंस्पेक्टर नरिंदर सिंह गिल चुनाव में ड्यूटी के व्यस्त कार्यक्रम के चलते शाम को करीब 4 बजे खाना खाने के बाद घर से ऑफिस में लौटा था। कुछ काम निपटाकर उसने शाम करीब सवा पांच बजे अपनी ही राइफल को अपने जबड़े के नीचे गले पर रख कर खुद को गोली मार ली। गोली गले में लगने के बाद मुंह से होती हुई सिर के पार निकल गई। इंस्पेक्टर नरिंदर सिंह गिल की मौके पर ही मौत हो गई।

पुलिस ने कार्रवाई के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल काॅलेज पहुंचा दिया, जहां आज उसका पोस्टमाॅर्टम होगा। सूचना मिलने के बाद एसएसपी फरीदकोट राजबचन सिंह संधू समेत कई पुलिस अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे।

इससे पहले 20 जनवरी 2018 को भी जैतो में तैनात डीएसपी बलजिंदर सिंह संधू ने भी जैतो के यूनिवर्सिटी काॅलेज में चल रहे एक प्रदर्शन के दौरान नाटकीय परिस्थितियों में अपने सर्विस रिवाल्वर से अपनी ही कनपटी पर गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। अब फिर इस तरह ऑन ड्यूटी पुलिस अफसर द्वारा आत्महत्या कर लिए जाने की घटना ने सवाल खड़े कर दिए हैं।

एसएसपी ने इंस्पेक्टर नरिंदर सिंह गिल द्वारा आत्महत्या करने की घटना की पुष्टि करते हुए कहा कि वह जिले का काफी दिलेर व कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी था व पुलिस आत्महत्या के कारणों की जांच कर रही है।