भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी अजा नाम से प्रसिद्घ है तथा इसे अन्नदा एकादशी भी कहा जाता है। एकादशी में भगवान विष्णु की पूजा की जाती है, जिससे व्यक्ति के जन्म-जन्मांतरों के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं। वहीं उनकी सभी मनोकामनाएं तत्काल ही पूर्ण हो जाती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस दिन कुछ विशेष उपाय करने से भगवान विष्णु के साथ ही देवी लक्ष्मी की कृपा भी प्राप्त होती है।

पीपल पर भगवान विष्णु का वास माना जाता है। एकादशी पर पीपल के पेड़ पर जल अर्पित करें। 

एकादशी पर गाय के कच्चे दूध में केसर मिलाकर भगवान विष्णु का अभिषेक करें। इससे भगवान विष्णु की आप पर सदैव कृपा बनी रहेगी। 

एकादशी की शाम को तुलसी के सामने गाय के घी का दीपक प्रज्वलित करें। उसके बाद पूजा करके तुलसी को प्रणाम करें। 

भगवान विष्णु के मंदिर में जाकर गेंहू, चावल आदि अन्न का दान करें। उसके बाद इसे गरीबों अौर जरुरतमंद लोगों में बांट दें। इससे भगवान विष्णु के साथ माता लक्ष्मी की भी प्रसन्न होती हैं। 

एकादशी पर दक्षिमावर्ती शंख में गंगाजल लेकर भगावन विष्णु का अभिषेक करें। ऐसा करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं।