आगरा के सैनिक स्कूल की कक्षा 9 में पढ़ने वाली दो छात्राएं कल देर रात मध्य प्रदेश के होशंगाबाद के रेलवे स्टेशन पर वने वेटिंग हाल में बैठी हुई मिली. पूछताछ में पता चला ये दोनों छात्राये अपने घर से भागी हुई थी जिसकी गुमसुदगी की शिकायत परिजनों द्वारा आगरा पुलिस को भी गई थी.

दरअसल यह दोनों छात्राएं आत्मघाती ब्लू व्हेल गेम में फंसी हुई थी जिसका सेकेण्ड टास्क पूरा करने यह दोनों घर से भागी थीं. दोनों होशंगाबाद रेलवे स्टेशन पर देर रात दिल्ली की ओर से आने वाली पंजाब मेल से उतरकर वेटिंग हाल में जा बैठी, दोनों के पास से एक-एक बैग, मोबाइल और लैपटॉप मिला है.

होशंगाबाद रेलवे स्टेशन पर GRP ने इन्हे अकेला बैठे देख पूछताछ की तो यह दोनों कोई जबाब नहीं दे पाई. जीआरपी थाने ले जाकर इनसे परिजनों का मोबाइल नंबर पता कर परिजनों को फोन पर सारी हकीकत बताई गई.

नाबालिग होने की वजह से जीआरपी होशंगाबाद द्वारा चाइल्ड केयर को सूचना देकर फिलहाल दोनों छात्राओं को चाइल्ड केयर को सौंप दिया गया है, और परिजनों को सूचना दे दी गई है.

जब चाइल्ड केयर के प्रतिनिधि द्वारा इनसे काउंसलिंग की गई तब पूरी बात सामने आई. छात्राओं ने स्वीकारा है कि वह ब्लू व्हेल गेम का दूसरा टास्क पूरा करने के लिए अपने घर से भागी थी.