जयपुर. गुरुवार को मेयर अशोक लाहोटी की अध्यक्षता में नगर निगम की बैठक का आयोजन सुबह 11 बजे किया गया। इस दौरान बैठक में कांग्रेस का एक भी पार्षद नहीं पहुंचा। कांग्रेसी पार्षदों ने निगम के बाहर जमकर हंगामा किया। नारेबाजी से शुरू हुआ ये प्रदर्शन हाथापाई तक पहुंच गया। कई पार्षदों को हिरासत में ले लिया गया। झड़प के दौरान एक महिला कार्यकर्ता बेहोश भी हो गई। ये पार्षद मेयर के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। नेता प्रतिपक्ष से हुए विवाद के बाद ये पार्षद निगम के बाहर प्रदर्शन करने पहुंचे हैं।

100 करोड़ रुपए के खर्चा का प्रस्ताव भी बैठक में शामिल



- निगम की बैठक के एजेंडे में 3 प्रस्ताव शामिल किए गए हैं, जिसमें शहर के 91 वार्डों के विकास के लिए 100 करोड़ रुपए खर्च का महत्वपूर्ण प्रस्ताव भी शामिल हैं। पांचवें बोर्ड की यह 11वीं बैठक है। हालांकि नगर निगम की कमेटियों के गठन के बाद होने वाली यह पहली बैठक हैं, इसलिए इसे खासा महत्वपूर्ण माना जा रहा है। यह बैठक चार माह बाद होने जा रही है। सदन में बैठक के दौरान मोबाइल पर भी बैन लगाया गया है। कांग्रेसी पार्षदों का कहना है कि मेयर विकास पर बात नहीं करना चाहते हैं। 

- आरोप है कि निगम में उपनेता धर्मसिंह सिंघानिया को अधिकृत करने का पत्र देने के बावजूद भी कार्यकारिणी समिति की बैठक में नहीं बैठने दिया। जिसके बाद कांग्रेस पार्षद मेयर अशोक लाहोटी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।