नई दिल्ली। माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर उन तमाम खातों को फालोअर्स की सूची से हटा रहा है जिन्हें हाल ही में संदेह के आधार पर बंद किया गया है। ट्विटर के इस कदम से तमाम सेलब्रिटी के फॉलोअर्स की संख्या में गिरावट आ सकती है।  


ट्विटर ने बुधवार को अपने अधिकृत हैंडल पर ऐलान किया- ‘हम ट्विटर पर भरोसा बनाने और स्वस्थ चर्चा को प्रोत्साहित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। फॉलोअर्स की संख्या अर्थपूर्ण और सही होनी चाहिए। हम बंद हुए खातों को लोगों के फॉलोअर्स सूची से हटा रहे हैं। हालांकि ट्विटर ने साफ किया है कि इससे वास्तविक सक्रिय यूजर्स पर कोई असर नहीं पड़ेगा। 


फालोअर खरीदने का खेल खत्म

ट्विटर के इस कदम से फालोअर्स खरीदने का खेल खत्म हो जाएगा। अक्सर फालोअर्स बेचने वाली वेबसाइट या संस्थाएं फर्जी ट्विटर प्रोफाइल बनाकर लोगों की फालोअर्स की संख्या बढ़ाती हैं। 


बड़ी संख्या में खाते बंद हुए 

हाल में जिन ट्विटर यूजर्स ने अपना खाता सत्यापित नहीं किया या पासवर्ड नहीं बदला है, उन खातों को बंद कर दिया गया है। 


ट्रोलिंग रोकने की कोशिश 

फर्जी खबरों का विस्तार और ट्रोलिंग को रोकने के लिए ट्विटर करोड़ों फर्जी खातों पर लगाम लगा रहा है।


7 करोड़ खाते बंद 

ट्विटर ने पिछले मई और जून में सात करोड़ से ज्यादा फर्जी खाते बंद कर दिए हैं। यानी हर दिन 10 लाख फर्जी खाते बंद किए गए। ट्विटर सितंबर 2017 से फर्जी खातों की जांच का अभियान चला रहा है। 


33 करोड़ उपयोक्ता

2016 में हुए अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में ट्विटर के गलत इस्तेमाल का आरोप 

14 फीसदी फर्जी यूजर्स हैं अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के समर्थकों में। 

33 फीसदी फर्जी फालोअर्स हैं अभिनेत्री दीपिका पादुकोण के। 

30 फीसदी तक फर्जी फालोअर्स देश के कई प्रमुख राजनेताओं के। 

33 करोड़ 60 लाख लोग दुनिया भर में ट्विटर इस्तेमाल करते हैं

2 करोड़ 32 लाख सक्रिय फालोअर हैं ट्विटर के भारत में।