सावन का महीना देवों के देव महादेव को बहुत प्रिय है। शास्त्रों के अनुसार, अन्य दिनों के अपेक्षा सावन के महीन में शिव की पूजा और अभिषेक करने से जल्दी और कई गुणा अधिक लाभ मिलता है। सावन के महीने में भगवान शिव और माता पार्वती से जो भी मांगा जाता है, वह अवश्य देते हैं। लेकिन जाने-अनजाने हम ऐसी गलती कर देते हैं, जिससे भगवान का हमे आशीर्वाद नहीं मिल पाता। आइए जानते हैं सावन में भगवान शिव की पूजा करते समय कौन से काम नहीं करने चाहिए…

सावन में शिवजी की पूजा करते समय हल्दी नहीं चढ़ानी चाहिए। हल्दी को हमेशा जलधारी में ही चढ़ानी चाहिए।

सावन में व्रतधारी को कभी भी दूध का सेवन नहीं करना चाहिए। दरअसल सावन में मौसम परिवर्तन होता है, जिससे कीड़े-मकोड़े भी होते हैं। कभी-कभी गाय-भैंस घास के साथ उन्हें भी खा जाते हैं इसलिए दूध हानिकारक हो जाता है। साथ ही इस समय के दूध के सेवन से वात भी बढ़ता है, जिससे बीमार होने का खतरा बना रहता है।

सावन में बैंगन का खाना भी वर्जित माना गया है। सावन के महीने में आने वाले बैंगन को शास्त्रों में अशुद्ध बताया गया है। अगर हम अशुद्ध होकर से भगवान शिव की प्रार्थना करेंगे तो हमे भगवान का कभी आशीर्वाद नहीं मिल पाएगा। इसलिए बुरे विचार, क्रोध जैसे नकारात्मक चीजों से दूर रहना चाहिए।


सावन को लेकर शिवभक्तों में एक अलग उत्साह नजर आता है। इस समय अपने मन में कभी भी बुरे विचार अपने मन में नहीं लाने चाहिए। इस समय स्त्रियों का सम्मान करना चाहिए और धर्म संबंधी किताबों का अध्ययन करना चाहिए।

सावन में ही नहीं कभी भी बुजुर्ग व्यक्ति, माता-पिता, भाई-बहन, स्त्री, गरीबों और ज्ञानी लोगों का अपमान नहीं करना चाहिए। इस माह में जो भी इन लोगों का अपमान करता है, उन्हें शिवजी की कभी कृपा प्राप्त नहीं हो पाती है।

सावन का महीना आध्यत्म का महीना है, इस समय ईश्वर और भक्त के बीच की दूरी कम होती है। इसलिए इस महीने को सोने में व्यतीत नहीं करना चाहिए। सुबह जल्दी उठकर और शिवजी की पूजा करनी चाहिए। सावन में आसपास सकारात्मक माहौल रहता है, जिससे आपकी प्रार्थना भगवान शिव तक जल्दी पहुंचती है।

सावन के महीने का विशेष महत्व है। इस वजह से इस दिन ही नहीं अपितु कभी भी मांस और शराब के सेवन से भी बचना चाहिए। जीवहत्या पाप है, इससे ना सिर्फ आपको पाप लगता है, बल्कि आपका मन भी अशुद्ध होता है। अशुद्ध मन से भगवान शिव की पूजा नहीं होती है।

भगवान शिव और माता पार्वती को घर की सफाई बेहद पसंद है इसलिए अपने घर को हमेशा साफ रखें। जिस स्थान पर गंदगी होती है वहां नकारात्मक उर्जा रहती है। इससे भगवान घर में निवास नहीं करते। सावन के महीने पूजा करते समय शुद्धता का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

सावन महीने में ग्रह दोषों के प्रभाव से भी आप राहत महसूस कर सकते हैं। इस दौरान किसी भी वृक्ष को नहीं काटना चाहिए, इससे आपके ग्रह दोषों पर प्रभाव पड़ता है। आपके परिवार में जितने भी सदस्य हैं, उतने ही पेड़ लगाने चाहिए। इससे आपके घर में नकारात्मकता दूर रहती है।