नई दिल्ली। पेट्रोल और डीजल की कीमतों में तेज गिरावट हो सकती है। दरअसल, वैश्विक कच्चे तेल की कीमतों में बीते नौ दिनों में लगभग 7 डॉलर प्रति बैरल गिरावट हुई है। गुरुवार को पेट्रोल 6 पैसे और डीजल 12 पैसे प्रति लीटर सस्ता हुए थे। मगर, अब बड़ी कटौती होने की उम्मीद की जा रही है।


दिल्ली में पेट्रोल और डीजल में क्रमश: 76.78 रुपए और 68.35 रुपए प्रति लीटर की दर से मिल रहे थे। सरकारी तेल कंपनियां अंतरराष्ट्रीय ईंधन की कीमतों, विनिमय दर और करों के आधार पर पेट्रोल और डीजल की दरों को तय करती हैं।


वे सभी वृद्धि और कटौती दैनिक उपभोक्ताओं के लिए पर पारित करने के लिए स्वतंत्र हैं। मगर, हाल ही में सरकार की ओर से संकेत दिए जाने का इंतजार करना उन्होंने शुरू कर दिया है। यही कारण है कि स्थानीय कीमत हमेशा अंतरराष्ट्रीय रुझानों की तरह तुरंत कम या ज्यादा नहीं होती है।


पेट्रोल और डीजल की कीमतों के कम होने से सरकार और सत्तारूढ़ पार्टियों को राहत मिलेगी। उन्हें बढ़ती कीमतों की वजह से जनता के गुस्से का सामना करना पड़ा है और लोगों का दबाव है कि तेल की कीमतों को कम करने के लिए सरकार को टैक्स और ड्यूटी को कम करना चाहिए।


अंतर्राष्ट्रीय कच्चे तेल की कीमत गुरुवार को 72 डॉलर प्रति बैरल के करीब पहुंच गई। बीते नौ दिनों में हुई तेज गिरावट के बाद कच्चे तेल की कीमत में इतनी कमी आई है। अहम उत्पादक देशों से आपूर्ति बढ़ाने की संभावना और अमेरिका व चीन के बीच ट्रेड वॉर की आशंका की वजह से तेल की कीमतों में कीम देखी जा रही है।