• फायर अधिकारी को पता नहीं कि नोटिस दिया था या नहीं, किसी पर केस नहीं

उधना के पेरिस प्लाजा स्थित एक गोदाम में मंगलवार दोपहर 12.30 बजे ऑक्सीजन सिलेंडर ब्लास्ट होने से एक युवक की मौत हो गई, जबकि गोदाम के मालिक सहित पांच लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। इसके अलावा फायर ब्रिगेड की टीम ने लगभग 15 लोगों को रेस्क्यू कर निकाला। घायलों को प्राइवेट एवं स्मीमेर अस्पताल भेजा गया। दो से ढाई घंटे की मशक्कत के बाद फायर ब्रिगेड ने आग पर काबू पा लिया।

सिलेंडर टेम्पो से उतारते समय ब्लास्ट हुआ और आग लग गई। फायर ब्रिगेड के अधिकारी का कहना है कि गोदाम में फायर सेफ्टी के संसाधन नहीं थे। इस बारे में जांच की जा रही है। पेरिस प्लाजा में अशोक ऑक्सीजन बॉटल सप्लाई ने अपना गोदाम बनाया था। यहां से अस्पतालों को ऑक्सीजन सिलेंडर सप्लाई किया जाता था। ब्लास्ट में सचिन निवासी मनोज कुमार रामबलेश महतो (35 वर्ष) की जान चली गई, गोदाम मालिक अजय चौहान, आशीष चौहान, राज रावल, राजकुमार सिंह सुधीर सिंह, पवन रमेश त्रिपाठी घायल हुए हैं।

अजय शाह सहित चार लोग जख्मी हो गए। इस हादसे में इमारत की पहली मंजिल पर हार्ड वेयर की दुकान में 15 से 20 लोग फंस गए थे। घटना की जानकारी मिलते ही चार फायर स्टेशन की गाड़ियां मौके पर पहुंच गईं। सभी को रेस्क्यू कर बाहर निकाला गया। घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया। फायर अधिकारी कृष्णा मोड ने बताया कि सिलेंडर में प्रेशर की वजह से ब्लास्ट होने की आशंका है। फिलहाल यह जांच का विषय है। गोदाम में 150 से ज्यादा ऑक्सीजन सिलेंडर रखे गए थे। गोदाम में फायर सेफ्टी के संसाधन नहीं मिले हैं। इस बारे में जांच कर उचित कार्रवाई की जाएगी।

पुलिस : फायर सेफ्टी के बारे में फायर ब्रिगेड को मालूम होगा
ऑक्सीजन सिलेंडर की कंपनी सचिन में स्थित है और उसका गोदाम उधना में है। फायरकर्मी रंजीत खड़िया ने बताया कि उधना थाने के इंस्पेक्टर एमवी पटेल ने बताया कि ये ऑक्सीजन सिलेंडर का गोदाम था। यहां फायर सेफ्टी लगती है या नहीं इसके लिए फायर अधिकारी से जानकारी ली जाएगी। घटना ग्राउंड फ्लोर पर हुई थी, दूसरी मंजिल पर कुछ लोग काम कर रहे थे। इस घटना में निमेष पटेल, रोहित रावल, इंदु तुकाराम, भावना पाटिल, यति पटेल आदि को रेस्क्यू किया।

टेम्पो से सिलेंडर उतारते समय हुआ ब्लास्ट
उधना पुलिस एवं फायर विभाग के सूत्रों के मुताबिक उधना उद्योग नगर रोड संख्या 9 पर अशोक ज्योति ऑक्सीजन प्रा.लि. नाम से ऑक्सीजन सिलेंडर का गोदाम है। मंगलवार दोपहर करीब 12 बजे गोदाम के बाहर सिलेंडर का टेम्पो खड़ा था। कर्मचारी उससे सिलेंडर उतार रहे थे। उसी समय सिलेंडर में ब्लास्ट हो गया। जानकारी मिली तो मानदरवाजा, डिंडोली, मजूरागेट, डुंभाल, भेस्तान फायर स्टेशनों से फायर ब्रिगेड के जवान माैके पर पहुंचे।

यह मामला एक्सीडेंटल लग रहा है, जांच जारी
यह मामला एक्सीडेंट का लग रहा है। मृतक 20-22 साल से वहां काम कर रहा था। वह टेम्पो में हेल्पर का काम करता था। वह सिलेंडर उतार रहा था और उसी समय ब्लास्ट हुआ। अब ये कैसे हुआ ये जांच का विषय है। चार लोगों ने खिड़की से कूदकर जान बचाई। अस्पताल से उन्हें छुट्टी मिल गई है। लापरवाही किसकी है और कौन जिम्मेदार इसका पता जांच के दौरान चलेगा। सिलेंडर उन अस्पतालों को सप्लाई किया जाता था जहां से डिमांड आती थी।-एमवी पटेल, इंस्पेक्टर, उधना थाना