केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि विधेयकों का विरोध आए दिन तेज और तेज होता जा रहा है। इसी बीच सोमवार को स्वतंत्रता सेनानी शहीद भगत सिंह के पैतृक गांव खटकड़ कलां में उनकी जयंती पर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह विवादास्पद कानूनों के विरोध में धरना देंगे। कैप्टन कुछ ही देर में पहुंचने वाले हैं। एक ओर विरोध के बीच राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने नए कृषि विधेयकों काे कानून में बदलने के लिए रविवार को स्वीकृति दे दी है। गजट अधिसूचना भी जारी की गई है। इसके बाद पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और उनके करीबियों ने नवांशहर में धरने पर बैठने का ऐलान कर दिया।

यह अमरिंदर सिंह का कृषि बिल को खिलाफ पहला विरोध होगा। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस महासचिव रावत भी राज्य के मामलों की कमान संभालने के बाद पहली बार पंजाब आएंगे। उनका कहना है कि किसानों के हितों को देखते हुए अपने राज्य के कानून में संशोधन समेत सभी विकल्पों पर विचार किया जा रहा है।

इससे पहले रविवार को कैबिनेट मंत्री पंजाब चरणजीत सिंह चन्नी ने बताया कि खटकड़ कलां से मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदर सिंह अपने मंत्रीमंडल समेत कांग्रेस नेताओं के साथ केंद्र सरकार के पास किए कृषि कानून के खिलाफ धरना देकर संघर्ष का ऐलान करेंगे। चन्नी रविवार को खटकड़ कलां में शहीद भगत सिंह के 117वें जन्मदिन मनाने के प्रबंधों का जायजा लेने पहुंचे थे। इस दौरान कैबिनेट मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा ने कहा कि पंजाब सरकार प्रदेश में एमएसपी को खत्म नहीं होने देगी। केंद्र सरकार ने कृषि बिल पास कर किसानों के साथ धोखा कर कॉरपोरेट घरानों के अधीन कर दिया। फिरोजपुर मंडल के डीआरएम राजेश अग्रवाल के मुताबिक जालंधर से चलने वाली सभी ट्रेनें 29 सितंबर तक रद्द रहेंगी और दूसरे राज्यों से आने वाली ट्रेनों को शॉर्टर्मिनेट किया गया है यानी ट्रेनों को अंबाला तक ही सफर तय करना होगा। दूसरी तरफ ट्रेनों के रद्द होने की सूचना सही समय पर मिलने से यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है और अपनी टिकट को कैंसिल करवा रहे हैं। जिन यात्रियों ने आवश्यक काम से अपने गांव अन्य काम के लिए जाना है, वे अंबाला से ट्रेन को पकड़ने के लिए टैक्सी किराये पर कर रहे हैं।