दिल्ली।  हिमाचल प्रदेश देवों की नगरी के नाम से दुनियाभर में प्रसिद्ध है। पहाड़ों के इस प्रदेश में चार धाम हैं, जिनका नाम क्रमशः बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री हैं। इन्हें चारधाम के नाम से भी पुकारा जाता है। इसके साथ ही यहां की घाटियां और बगीचों की क्यारियां देखने लायक हैं। जबकि इस प्रदेश में कई ऐसी जगह भी हैं जो अपनी रहस्यों के लिए जानी जाती हैं। अगर आपको नहीं पता है तो आइए जानते हैं-

बिजली महादेव मंदिर, कुल्लू

यह मंदिर कुल्लू में अवस्थित है। इस मंदिर में शिवलिंग स्थापित है। इस बारे में स्थानीय लोगों का कहना है कि बरसात के मौसम में यह शिवलिंग आकाशीय बिजली के गिरने से कई बार विखंडित हो चुका है। हालांकि, मंदिर के पुजारी इन्हें सत्तू और मक्खन की मदद से जोड़ देते हैं। यह मंदिर कुल्लू से 13 किलोमीटर दूर है।

रक्षम गांव, किन्नौर

किन्नौर जिले में बसे इस गांव में केवल 800 लोग रहते हैं। ये सभी लोग बनजारे हैं। इस गांव में दो मंदिर हैं। एक काली मां का मंदिर है। जबकि दूसरा भगवान शिव का मंदिर है। इस गांव में महिलाएं जीविकोपार्जन के लिए खेतों में काम करती हैं। जबकि पुरुष गायों और भेड़ों का पालन पोषण करते हैं। अगर आप कुछ नया अनुभव करना चाहते हैं तो इस जगह की एक बार जरूर यात्रा करें।

चांशल दर्रे, शिमला

कुछ साल पहले चांशल के बारे में लोगों को कोई जानकारी नहीं थी। अब जबकि यात्रा का आवागमन हो गया है तो लोग चांशल घूमने के लिए जाते हैं। फ़िलहाल इस जगह पर एक अतिथि गृह है। इसलिए रात में आप चांशल में रुक नहीं सकते हैं। इसके लिए आपको पहले से बुकिंग करानी होगी। इस दर्रे के नजदीक डोडरा और क्वार गांव हैं। ये आदिवासियों का गांव हैं। इस जगह पर आप रात्रि विश्राम कर सकते हैं